Struggle Changes your Destiny

Struggle is life. Struggle in a human's life end only upon his death. Struggle occur in every human's life. A jobless for job, an employee to save his job, where someone struggling to save their relationship. There is no one who does not have challenges, no sorrow, and no difficulty in life.


 When we think of a financially strong person, we usually think that he is living a life of great comfort and splendor. Have you thought about the struggles in his life.For starting an industry, he has to struggle for selection of machinery, searching and acquiring of suitable land raising the funds to start production and struggle for market for the for the products.

 The struggle of the worker working in the same industry ends with his working hours and the risk is nothing. But the struggle of entrepreneur goes on and the entire risk remains. Employee’s salary is paid at fixed time, but entrepreneur does not get the benefit at fixed time and fixed rate. Still he keeps on struggling. Read More...


    संघर्ष ही जीवन हैं। इंसान के जीवन में संघर्ष उनकी मृत्यु पर ही समाप्त होते हैं। संघर्ष हर इंसान के जीवन में होते हैं। बेरोजगार नौकरी के लिए, नौकरी करने वाला नौकरी बचाने के लिए, कोई अपने रिश्ते बचाने के लिए संघर्ष कर रहा है। ऐसा कोई भी नहीं है जिसकी लाइफ में चुनोतियाँ न हो, दुःख न हों, कठिनाई न हों।

     जब हम आर्थिक दृष्टि से सशक्त व्यक्ति के बारे में सोचते हैं, तो मन में एक ही ख्याल आता हैं की वह बहुत आराम व वैभव की जिंदगी जी रहा हैं। क्या आपने सोचा है है उसके जीवन में कितना संघर्ष हैं। उद्योग शुरू करना, मशीनरी के चयन, भूमि चुनाव धन इकठ्ठा करना, उत्पादन शुरू और उसके लिए बाजार के लिए संघर्ष।

     उसी उद्योग में काम करने वाले का संघर्ष उसके काम के घंटे के साथ ही ख़त्म हो जाता हैं और जोखिम कुछ भी नहीं। लेकिन उधमी का संघर्ष तो सतत चलता ही रहता हैं और पूरा का पूरा जोखिम उसी का रहता हैं। कार्मिक का वेतन नियत समय पर मिलता ही है, लेकिन उधमी का लाभ उसे नियत समय और नियत दर पर नहीं मिलता। फिर भी वह संघर्ष करता रहता हैं।



Comments

Story on Life of a Diligent Boy

I started Early to be on Time, But

Love with Authority by "Aks"

When My Father Had Become Idle

Lesson from My Teacher Mr. Sher Singh

There is Enough for Everyone's Need

The First Journey of My Life Part- IV

The First Journey of My Life Part- III

A Short Story on "Tomorrow Never Comes"

The First Journey of My Life Part- I

The First Journey of My Life Part- II